Esic : इस वजह से यदि आपकी नौकरी छूट गई है, तो Esic देगा 2 साल तक नगद वेतन

Esic : इस वजह से यदि आपकी नौकरी छूट गई है, तो Esic देगा 2 साल तक नगद वेतन

दोस्तों, हमने पिछले पोस्ट

में ESIC की “अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना” के बारे में बताया था| जिसके तहत यदि आपकी नौकरी छूट जाती है और 90 दिन तक आपको कोई नौकरी नहीं मिलती है, तो इन 90 दिनों के लिए esic की तरफ से आपको मासिक नकद राशि का भुगतान करता है। लेकिन इस “ATAL BIMIT VYAKTI KALYAN YOJNA” (ABVKY) के तहत और एक उपयोगी योजना है जिसके तहत नौकरी छूट जाने पर लगातार 2 साल तक कर्मचारी को ESIC के तरफ से मासिक नकद राशि का भुगतान किया जाता है और आज के इस पोस्ट में हम इसी के बारे में जानेंगे|

दोस्तों, ईएसआईसी ने इसके बारे में ट्विटर पर ट्वीट करके भी बताया है कि-रोजगार छूटने का मतलब आय की हानि नहीं है,ईएसआईसी रोजगार की अनैच्छिक हानि या
गैर – रोजगार चोट के कारण स्थायी अशक्तता के मामले में 24 माह की अवधि के लिए मासिक नकद राशि का भुगतान करता है।

किसे मिलता है ESIC की तरफ से 24 महीने का मासिक नगद भुगतान?

ऐसे कर्मचारी जिनका ESIC में कंट्रीब्यूशन होता है अर्थात ईएसआईसी के IP (Insured Person) हैं, यदि अनैच्छिक हानि या किसी गैर-रोजगार चोट के कारण स्थायी अशक्तता या अपंगता आ जाती है, तो ऐसे मामले में ESIC के “अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना” के तहत कर्मचारी को लगातार दो वर्षों (24 महिनों) के लिए मासिक नगद राशि का भुगतान किया जाता है| जिससे उसे बेरोजगारी की वजह से आर्थिक परेशानी का सामना ना करना पड़े|

कैसे करें आवेदन? How to apply?

इसके लिए आवेदन करना बहुत आसान है लेकिन इसे ऑफलाइन ही आवेदन कर सकते हैं| इसके लिए ऑनलाइन आवेदन की सुविधा ईएसआईसी द्वारा बहुत जल्द लाई जा सकती है| यदि कोई इस योजना का लाभ लेने के लिए पात्र हैं तो उन्हें सबसे पहले ईएसआईसी की ऑफिशियल वेबसाइट esic.nic.in पर जाकर इसकी फॉर्म (FORM-AB1,AB2,AB3 और AB4) डाउनलोड करना पड़ेगा| form के साथ ₹20 का non-judicial पेपर पर नोटरी से एफिडेविट करवाना पड़ेगा और इसे फॉर्म के साथ esic के ब्रांच में जमा करना पड़ेगा|
लेकिन इस योजना का लाभ जीवन भर में केवल एक ही बार लिया जा सकता है अर्थात यदि आप इस योजना के तहत लाभ ले चुके हैं तो दोबारा इसके लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *